Latest News

शुक्राणुओं की संख्या में हो रही है गिरावट, निःसंतानता के 30 से 40 प्रतिषत मामलों में पुरूष जिम्मेदार

शुक्राणुओं की संख्या में हो रही है गिरावट, निःसंतानता के 30 से 40 प्रतिषत मामलों में पुरूष जिम्मेदार

— इन्दिरा आईवीएफ कंकड़बाग (पटना) सेंटर का भव्य शुभारम्भ

पटना। बदलती जीवनशैली और आपाधापी के चलते भारतीय पुरूषों के वीर्य की गुणवत्ता और शुक्राणुओं की संख्या में तेजी से गिरावट सामने आयी है। चिंताजनक बात यह है कि ग्लोबल अध्ययन में यह सामने आया है कि शुक्राणुओं की औसत संख्या में 32 फीसदी तक गिरावट आयी है लेकिन सुकून वाली बात यह है कि आईवीएफ के रूप में इसका उपचार उपलब्ध है। निःसंतानता के ईलाज के क्षेत्र में देष की सबसे बड़ी फर्टिलिटी चैन इन्दिरा आईवीएफ ने पटना के कंकड़बाग स्थित देवकी काॅमर्षियल काॅम्पलेक्स, डाॅक्टर्स काॅलोनी में अपने नये सेंटर का शुभारम्भ  किया है। यहां रियायती दरों पर निःसंतान दम्पतियों का ईलाज किया जायेगा, यह ग्रुप का 86वां सेंटर है।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्य अतिथि श्री मंगल पाण्डे, स्वास्थ्य मंत्री, बिहार सरकार थे। विषिष्ठ अतिथि श्री राज किषोर चतुर्वेदी सिविल सर्जन, पटना रहे। विशेष अतिथि श्री षषांक षेखर एवं डाॅ. ज्ञानेन्द्र कुमार भी उपस्थित थे। स्वास्थ्य मंत्री ने निःसंतानता के क्षेत्र में इंदिरा आईवीएफ के जन जागरूकता लाने के प्रयासों की भुरी-भुरी प्रषंसा की।

इंदिरा आईवीएफ बिहार के प्रमुख भू्रण विषेषज्ञ डाॅ. दयानिधि कुमार ने बताया कि हमारी लाइफ स्टाईल ने बांझपन को आमन्त्रण दिया है खासकर धूम्रपान, खराब खानपान, तनाव ने पुरूषों की फर्टिलिटी को प्रभावित किया है। गर्भधारण के लिए पुरूषों की षुक्राणुओं की संख्या, गतिषीलता और बनावट अच्छी होना आवष्यक है यदि इन सब में कमी हो तो प्राकृतिक गर्भधारण में समस्या आती है ऐसे में आईवीएफ तकनीक से गर्भधारण करवाया जा सकता है।

कंकड़बाग सेंटर की आईवीफ स्पेषलिस्ट डाॅ. अनुपम कुमारी ने कहा की बांझपन के लिए पुरूष और महिला दोनो भागीदार हो सकते हैं इसलिए निःसंतानता के ईलाज के लिए दोनों को आगे बढ़ना चाहिए। उन्होने बताया की आईवीएफ तकनीक के जरिये पूरे विष्व में 80 लाख दंपत्ति लाभान्वित हो चुके हैं। सेंटर षुभारंभ के अवसर पर 18 से 29 फरवरी 2020 तक निःषुल्क निःसंतानता परामर्ष षिविर रखा गया है जिसमें निःसंतान दम्पती विषेषज्ञों से निःषुल्क परामर्ष प्राप्त कर पाएंगे।

इन्दिरा आईवीएफ ग्रुप के चेयरमैन डाॅ. अजय मुर्डिया ने बधाई देते हुए कहा कि कंकड़बाग में निःसंतान दम्पतियों के ईलाज के लिए आधुनिक केन्द्रों का अभाव है इस कारण उन्हें बड़े षहरों की ओर रूख करना पड़ता है अब यहीं पर आईवीएफ केन्द्र खुलने से उन्हें अधिक से अधिक सुविधाएं उपलब्ध होगी। बिहार में पटना, बेगूसराय, मोतिहारी, भागलपुर और मुजफ्फरपुर के बाद यह ग्रुप का छठां सेंटर है। यहां केन्द्र खुलने से आसपास के क्षेत्र के लोगों को फायदा होगा उन्हें इलाज के लिए दूर नहीं जाना पड़ेगा।

About the author

Ankit Piyush

Ankit Piyush is the Editor in Chief at BhojpuriMedia. Ankit Piyush loves to Read Book and He also loves to do Social Works. You can Follow him on facebook @ankit.piyush18 or follow him on instagram @ankitpiyush.

Add Comment

Click here to post a comment